Breaking News
diya11

… तो इन दिनों बिजनेसमैन वैभव रेखी के प्यार में हैं दिया मिर्जा

diya11

बॉलीवुड एक्ट्रेस दीया मिर्जा को यकीनन आप सभी खूब अच्छे से पहचानते होंगे, जिन्होंने पिछले साल अपने पति साहिल सांगा से तलाक तो लिया था। लेकिन दोनों के अलग होने के तरीके ने हर किसी की खूब वाहवाही बटोरी। दीया और साहिल पिछले 11 साल से एक-दूसरे के साथ रिलेशनशिप में थे। लेकिन वहीं अब सुनने में आ रहा है कि दीया को एक बार फिर से अपना सच्चा प्यार मिल गया है।
रिपोर्ट के अनुसार, दीया बिजनेसमैन वैभव रेखी को डेट कर रही हैं। दोनों के परिवार वालों को भी इस बात की जानकारी है। यही नहीं, कथित तौर पर पूरे लॉकडाउन में दीया अपने पाली हिल निवास पर वैभव के साथ रह रही थीं। लेकिन इतना सब होने के बाद भी सबसे बड़ा सवाल यह है कि आखिर किन कारणों से दीया अपने दिल की बात नहीं कह पातीं।
जब भी प्यार की बात होती है तो महिलाएं अपनी फीलिंग्स को बयां न करके चुप्पी साध लेती हैं। जबकि इसके विपरीत पुरुष बिंदास तरीके से अपनी फीलिंग्स को बयां करते हैं। हालांकि, हर मामले में ऐसा हो जरूरी नहीं है कई बार महिलाएं पहले से ही स्वाभाविक रूप से अपनी भावनाओं को शेयर करने में सक्षम होती हैं। लेकिन हां, कुछ कारणों से महिलाएं अपने दिल की बात कहने में बहुत समय लेती हैं। यह स्थिति तब ज्यादा देखने को मिलती है जब महिलाएं या तो पहले प्यार में धोखा खाती हैं या फिर वह तलाकशुदा हों।
ज्यादातर महिलाएं यह सोचकर भी अपने दिल की बात दिल में रखती हैं कि जब लोगों को इस बारे में पता चलेगा तो उनके रिएक्शन कैसे होंगे। लोग मेरे बारे में क्या बोलेंगे? लोग कुछ ग़लत न समझें? हालांकि, इस बीच हम ये क्यों भूल जाते हैं कि दिल लगाने का फैसला पूरी तरह से आपका है, लोगों का नहीं। तो ऐसे में अपने दिल की बात जाहिर करने में संकोच क्यों करना।
कभी-कभार महिलाएं ये सोचकर भी अपने दिल की बात नहीं कह पातीं कि कहीं सामने वाले ने अगर न कह दी तो कहीं उनका दिल तो नहीं टूट जाएगा। जी हां, ज्यादातर मामलों में ऐसा देखा गया है कि प्यार में धोखा खाई महिलाओं को हमेशा इस बात का डर होता है कि अगर वह अपने दिल की बात पहले बयां कर देंगी तो कहीं सामने वाला मना न कर दे।
ये बात किसी से छिपी नहीं है कि अगर महिलाएं किसी के लिए फीलिंग रखती हैं तो वह मामले को बेहद संजीदा तरीके से हैंडल करती हैं। वे इस बात को अच्छे से जानती हैं कि दिल के खेल में जल्दबाजी ठीक नहीं है। वह सामने वाले को समझने में अच्छा खासा वक्त लेती हैं। यही नहीं, कई बार वे खुद इस बात के लिए कॉन्फिडेंट होना चाहती हैं कि वह जिस व्यक्ति के साथ हैं, वह उनके लिए सही है भी या नहीं।
महिलाओं को अपनी फीलिंग्स जाहिर करने ज्यादा वक्त इसलिए भी लगता है, क्योंकि उनके मन में हर पल यह एक सवाल भी बना रहता है कि अगर वह सामने वाले को अपनी फीलिंग्स के बारे में बताएंगी तो वह उनकी कद्र करेगा भी या नहीं। क्या इजहार की पहल करने से वह कहीं उनको हल्के में लेना तो शुरू नहीं कर देगा। हालांकि, रिलेशनशिप में झिझक महसूस होना बहुत स्वाभाविक है, लेकिन अगर आप चाहें तो आगे चलकर अपने दिल की बात बता सकती हैं।

Check Also

सीएम धामी ने प्रदेश वासियों को राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर दी बधाई एवं शुभकामनाएं

देहरादून (सू0 वि0)। राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री ने प्रदेश वासियों को दी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.