Breaking News
strike in doon

शहर में हो रहे चोरियों के सम्बन्ध में स्थानियों ने लगाये पुलिस पर लापरवाही के इल्जाम, सौंपा ज्ञापन

strike in doon

दीप्ति नेगी
देहरादून:- सदियों पहलें शांत वातावरण व सुकून का दर्ज लिए हुए उत्तराखंड में हर व्यक्ति अपने आपको हर लहज़े में सुरक्षित महसूस करता था और उस सुरक्षा का हर पैमाना पूरा करती थी उत्तराखंड की मित्र पुलिस, पर आज का नजरिया इसके बिल्कुल उल्ट है!! राजधानी देहरादून की मित्र पुलिस इन दिनों शहर भर के स्थानियों द्वारा दिन दहाड़े और हर दूसरे दिन शहर के बुज़ुर्गों व महिलाओं के साथ हो रही चोरी व चेन स्नैचिंग के मामलों में जनता के प्रति पुलिस रवैये को देखते हुए चोरों को बढ़ावा देने वाली पुलिस, नाकाम पुलिस जैसे बयानों का सामना कर रही है। ताज़ा मामलों पर गौर करे तो कल एसएसपी कार्यालय में मंडी समिति के पूर्व अध्यक्ष व देहरादून गूँज संस्था के मौजूदा अध्यक्ष रविन्द्र सिंह आनंद ने कल सुबह शहर के कई क्षेत्रों के लोगों के साथ पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की व एसएसपी निवेदिता कुकरेती के कार्यालय में मौजूद न होने के चलते एएसपी निहारिका भट्ट को ज्ञापन सौंपते हुए जनता की समस्या को जल्द निबटाने का आश्वासन माँगा और समस्या जल्द न हल होने पर बड़े विरोध प्रदर्शन तक की चेतावनी दी है। इस दौरान प्रदर्शन में कौलागढ़, गढ़ी कैंट, प्रेमनगर, कांवली रोड के स्थानियों ने पुलिस से इन चोरियों की घटनाओं के बीच अपनी सुरक्षा की मांग की है।
पिछले दो महीनों से अख़बार के पन्नें पलटे तो तकरीबन हर दूसरे दिन की खबर होती है कि निम्लिखित क्षेत्रों में चोरों द्वारा बुज़ुर्गों व महिलाओं से उनकी गली के बाहर चेन स्नैचिंग। कुछ मामलों में पुलिस उन्हें पकड़ने में कामयाब भी रही पर बहुत से मामलों में अपराधी अभी भी पुलिस के चंगुल से दूर है। इन मामलों में पीड़ितों का कहना है कि सम्बंधित थानों के थानाध्यक्षों द्वारा उन्हें कोई भी संतुष्ट जवाब नहीं मिला है और न ही अपराधियों के खिलाफ पुलिस द्वारा कोई कार्यवाही की जा रही है। पीड़ितों ने पुलिस पर चोरों को खुली छूट देने जैसे आरोप भी लगाये गए। स्थानियों ने इस दौरान ज्ञापन पत्र में सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पुलिस टीम बनाने की गुहार लगायी है जिसमे महिला पुलिस कर्मी को भी शामिल करने का प्रस्ताव रखा है।इसके अतिरिक्त उन टीमों को शहर के अलग अलग क्षेत्रों में सिविल ड्रेस में तैनात करने की भी मांग की है जिससे समय रहते चोर पकड़ा जाये। इसके अतिरिक्त स्थानियों द्वारा सीपीयू व ट्रैफिक पुलिस द्वारा जनता को बेवजह परेशान न करने की भी अपील की है। शहर में बीते रोज़ हुई इन घटनाओं से एक तरफ जहाँ स्थानीय के मन में सुरक्षा की दृष्टि से असुरक्षा की भवन उत्पन्न हुई है वही इन घटनाओं से मित्र पुलिस की छवि पर आँच भी आई है।और अब ऊपर से जनता द्वारा घटनाओं में पुलिस का कड़ा रुख अख्तियार न करने जैसे आरोप पुलिस की मुश्किलें बढ़ा रही है। पर पुलिस के लिए असल चुनौती न सिर्फ चोरों को पकड़ना है अपितु जनता के बीच सुरक्षित दून की छवि वापिस बनाने की है।

Check Also

जल्द ही समान नागरिक संहिता को लागू किया जाएगा: धामी

देहरादून (सूचना विभाग)।  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शुक्रवार को होटल आई.टी.सी मौर्य, नई दिल्ली …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *