Breaking News
team india

मिशन 2019: भारतीय क्रिकेट टीम में ये 6 नाम हैं पक्के!

team india

नई दिल्ली । साउथ अफ्रीका में वनडे सीरीज के दौरान भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कई बार यह बात दोहराई है कि वह 2019 वर्ल्ड कप के लिए टीम तैयार करने पर भी काम कर रहे हैं। वर्ल्ड कप तो अभी 15 महीने दूर है और उसके पहले टीम को कई मैच भी खेलने हैं। मगर सिर्फ साउथ अफ्रीका दौरे पर पांच मैचों के आधार पर तय करने को कहा जाए तो विराट के साथ-साथ सिलेक्टर्स भी कम से कम छह नामों पर अपनी पक्की मुहर लगा देंगे। इनमें तीन नाम और जोड़े जा सकते हैं जिनका दावा तो मजबूत है, लेकिन यदि उनसे बेहतर दूसरा कोई विकल्प मिल गया तो फिर उनके लिए मिशन 2019 में शामिल होना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। साथ ही कुछ ऐसे खिलाड़ी भी हैं, जिनको कैप्टन की उम्मीदों पर खरा उतरना अभी बाकी है।
जो होंगे प्लेइंग इलेवन की जान
विराट कोहली: यह तो तय है कि भारत अपना अगला आईसीसी वर्ल्ड कप विराट कोहली की अगुआई में ही खेलेगा। पिछले कुछ सालों में अपने प्रचंड फॉर्म के बूते ‘रन मशीनÓ का तमगा हासिल करने वाले विराट का बल्ला साउथ अफ्रीका के खिलाफ इस वनडे सीरीज में भी खूब चला है। वह इस सीरीज में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं।
मैच-5, रन-429, हाईएस्ट-160*, ऐवरेज-143.00, स्ट्राइक रेट- 92.25, 50-1, 100-2
शिखर धवन: बाएं हाथ का यह बल्लेबाज विदेशी धरती में भारतीय टीम की सफलता की कुंजी रहा है। पिछली चैंपियंस ट्रोफी हो या पिछला वर्ल्ड कप, धवन ने हर बार धमाल बल्लेबाजी की है। इस वनडे सीरीज में भी इस बल्लेबाज ने भी ओपन करते हुए लगभग हर मैच में टीम को तेज और ठोस शुरुआत दिलाई।
मैच-5, रन-305, हाईएस्ट-109, ऐवरेज-76.25, स्ट्राइक रेट- 110.50, 50-2, 100-1
भुवनेश्वर कुमार: स्विंग के सरताज भुवी का शुरुआत इस वनडे सीरीज में ज्यादा सफल तो नहीं रहे हैं, लेकिन इंग्लैंड के कंडिशंस में वह घातक साबित हो सकते हैं इससे सभी इत्तेफाक रखेंगे। इसके अलावा लोअर ऑर्डर में वह एक भरोसेमंद बल्लेबाज होते जा रहे हैं, जो मुश्किल घड़ी में एक छोर संभाल सकता है।
मैच-5, विकेट-2, बेस्ट-1/19, इकनॉमी- 6.09, रन-40
जसप्रीत बुमराह: इनका बोलिंग ऐक्शन अभी भी कई बल्लेबाजों के लिए परेशानी का सबब है। शुरुआती ओवर्स में भारत को सफलता दिलाना इनकी एक और खासियत है और डेथ ओवर्स में अपने सटीक यॉर्कर्स से बल्लेबाजों के स्टंप उखाडऩे में यह माहिर हैं। सीरीज में यह तीसरे हाईएस्ट विकेट टेकर हैं।
मैच-5, विकेट-6, बेस्ट-2/32, ऐवरेज-23.83, इकनॉमी- 4.20
युजवेंद्र चहल: शरीर इनका हल्का फुल्का है, लेकिन जिगर बहुत बड़ा है। यह लेग स्पिनर गेंद को फ्लाइट करने से नहीं डरता, जिसका उसे फायदा भी मिलता है। करियर की शुरुआत में जब-जब इनको मौका मिला, उन्होंने खुद को साबित किया और आज वह टीम इंडिया के अहम हिस्सा बन चुके हैं।
मैच-5, विकेट-14, बेस्ट-5/22, ऐवरेज-16.00, इकनॉमी- 5.31
कुलदीप यादव: यूपी से आया यह ‘चाइना मैनÓ बल्लेबाजों के लिए अबूझ पहेली बन गया है। अपने रिस्ट स्पिन से बल्लेबाज को नचा देने वाले कुलदीप इस वनडे सीरीज के हाईएस्ट विकेट टेकर हैं। उन्होंने साबित किया है कि भारत के अलावा वह विदेशी धरती पर भी सफल हो सकते हैं।
मैच-5, विकेट-16, बेस्ट-4/23, ऐवरेज-11.56, इकनॉमी- 4.51
इनका दावा मजबूत
एमएस धोनी: पिछले कुछ समय में यह दिखा है कि धोनी पहले की तरह स्लॉग ओवर्स में मनमाफिक शॉट लगाकर रन नहीं बटोर पा रहे हैं। इसके बावजूद वह आज भी एक मैच विनर हैं।
मैच-5, रन-69, हाईएस्ट-42*, ऐवरेज-34.50, स्ट्राइक रेट- 81.17
रोहित शमार्: फॉर्म कैसी भी हो, लेकिन मैच विनिंग नॉक खेलने का माद्दा इनके भीतर हरदम रहता है। इस ओपनर ने सीरीज के पांचवें वनडे में इसे साबित भी किया। हालांकि विदेशी पिचों पर अभी भी इनका रेकॉर्ड अच्छा नहीं हुआ है।
मैच-5, रन-155, हाईएस्ट-115, ऐवरेज-31.00, स्ट्राइक रेट- 80.72
हार्दिक पंड्या: जब से इनकी तुलना कपिल देव से की गई है, इनकी लय बिगड़ गई है। यह ऑलराउंडर इस पूरे दौरे पर कुछ खास नहीं कर सका है, लेकिन अपनी क्षमता का पूरा प्रदर्शन करें तो इनकी जगह भी पक्की हो सकती है।
इनकी परख बाकी
1-अजिंक्य रहाणे: नंबर चार पर वह भारत की पहली पसंद होंगे, क्योंकि विदेशी पिचों पर रहाणे का रेकॉर्ड लाजवाब रहा है। लेकिन ये पिछले कुछ समय से वह अपनी फॉर्म को लेकर जूझ रहे हैं।
2-मनीष पांडे: यह बल्लेबाज मिडल ऑर्डर में पारी को संवारना जानता है। लेकिन पांचवें क्रम के लिए उन्हें टक्कर देने के लिए श्रेयस अय्यर भी आ गए हैं।
3-केदार जाधव: यह हार्ड हिटिंग बल्लेबाज टीम को एक बोलिंग विकल्प भी मुहैया कराता है और इसके अलावा विकेटकीपिंग भी कर लेते हैं। फिट रहने और लगातार अपनी काबिलियत साबित करने की जरूरत है।
4-दिनेश कार्तिक: एक अतिरिक्त विकेटकीपर के विकल्प के तौर पर दिनेश टीम के साथ बने रह सकते हैं, लेकिन उन्हें मौका तभी मिलेगा जब धोनी आराम पर होंगे। ऐसे में कार्तिक के लिए यही बेहतर होगा कि वह खुद को एक बल्लेबाज के तौर पर स्थापित करें। जोकि विकेटकीपर का विकल्प भी टीम को मुहैया कराता हो। अगला वर्ल्ड कप खेला जाएगा नए फॉर्मेट में  1992 वर्ल्ड कप में जो फॉर्मेट अपनाया गया था, वही फॉर्मेट 2019 वर्ल्ड कप में भी अपनाया जाएगा। यानी सारी 10 टीमें एक ही ग्रुप में रहेंगी और आपस में एक दूसरे से राउंड रोबिन मैच खेलेंगी। इस हिसाब से हर टीम को नौ मैच खेलने होंगे। इसके बाद ग्रुप में टॉप फोर में रहने वाली टीमों के बीच सेमीफाइनल खेला जाएगा और उसके बाद सीधे फाइनल। यह विश्व कप अगले साल 30 मई से 14 जुलाई के बीच इंग्लैंड में खेला जाएगा। 12 स्थानों पर कुल 48 मैच होंगे।

Check Also

Tokyo Paralympics: बैडमिंटन में नोएडा डीएम Suhas LY ने जीता पहला मैच , जर्मनी के खिलाड़ी को दी करारी मात

टोक्यो पैरालंपिक  : टोक्यो पैरालंपिक में भारतीय खिलाड़ी शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं. इसी कड़ी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.