Breaking News

आई ए एस दीपक रावत जैसी हो आत्मा, तो भ्रष्टाचार और शोषण का हो खात्मा

mr. deepak

जीवन में देखे हैं बुझे-बुझे दीपक, नाम वाले हमने अनके
जिलाधिकारी हरिद्वार के रूप में रोशन, दीपक काम वाले बस एक।

मेहनतकश और ईमानदार लोग, खुश हैं जिलाधिकारी पाकर नेक
सकपकाए बैठे हैं बाबू-अफसर, जो भ्रष्टाचार की आग रहे हैं सेक।

महकमा कोई भी हो भला, छिपोगे जाकर जो डाल-डाल
नहीं मिलेगी आड़ कहीं, दीपक जी खंगाल डालेंगे पात-पात।

गारा-माटा रोड़ी-बजरी में देख अंधाधुंध, कालाबाजारी के उम्दा खेल
सोना-चाँदी बनाया सफेदपोश और बिचौलियों ने मिलकर, देश की निकाल दी रेल।

गरीबों-लाचारों के हक़ की दवाईयाँ, स्मगलिंग की चढ़ गईं भेंट
सरकारी अस्पतालों के भ्रष्ट डॉक्टर-फार्मासिस्ट, दिखा रहे हैं गरीब मरीजोे को ऐंठ।

गंगा सफाई हो या अस्पताल की सफाई, खाने को आतुर कर्मचारी अधिकारी पाई-पाई
बहती गंगा में हाथ धोने वाले सब भाई-भाई, सुस्ती बेईमानी टाल-मटोल और चौतरफा लापरवाही।

दीपक साहब आप जहाँ-जहाँ करते हैं बिजली की फुर्ती से छापेमारी भारी
कुछ देर बाद अपने पुराने रंग ढंग में आ जाते हैं सब बहुत तगड़ी है बीमारी।

प्रधान के बस्ते से लेकर बंधु, प्रधानमंत्री के कार्यालय तक
टोह में रहते हैं सरकारी अफसर-बाबू, भ्रष्टाचार की कैंची चलाने को।

बहरहाल आपके काम करने का अंदाज बहुत राहत देता है
मुंशी प्रेमचन्द जी के नमक का दारोगा सी आहट देता है।

श्री राम के पवित्र-धाम चरणों से मेरी प्रार्थना है मान्यवर
भ्रष्टाचारियों को दो पैरों का घोषित कर दिया जाए हिंसक जानवर।

खटता है रोज-रोज पल-पल दिल यह सोच-सोचकर बड़े मियाँ
क्यों नहीं हो जाते आप जैसे सब आई ए एस क्योंकि लाचारों पर ही गिरती है भ्रष्टाचार की बिजलियाँ।

 Virendra Dev Gaur (Veer Jhuggiwala)

 Chief Editor(NWN)

Check Also

सीएम धामी ने प्रदेश वासियों को राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर दी बधाई एवं शुभकामनाएं

देहरादून (सू0 वि0)। राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री ने प्रदेश वासियों को दी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.