Breaking News
jai shree ram

मोहन भागवत के कट्टर-उदार-परिवार का सार

jai shree ram

हे मोहन भागवत तूने
श्री राम के धनुष उदंड की खींच दी प्रत्यंचा
श्री कृष्ण के शंख पॅाचजन्य के शंखनाद की दोहरा दी मंशा
हिंदुत्व सनातन परहित चिंतन का वेद वाक्य समझाया
भारत की माटी-पानी का जीवन दर्शन बताया
इस उदारता में अखंड समर्पण का राग तूने गाया
ऐसी सत्यनिष्ठ कट्टरता पर हिन्दू दर्शन का है साया
भारत माता की इसी छाँव में रचे गए वेद-उपनिषद
भारत माता के इसी वात्सल्य में पनपे योग-आयुर्वेद
भारत माता की गोद में अकबर जैसा खूँखार
बन गया था सर्वधर्म समभाव वाला
अकबर का महान कवि अब्दुर रहीम खाने-खाना
नौ रत्नों में से एक था श्री कृष्ण का भक्त दीवाना
दान देते समय नहीं देखता था पाने वाले का चेहरा कभी
गोस्वामी तुलसीदास ने अब्दुर रहीम को सराहा
उसकी कृष्ण भक्ति और उसकी रहमदिली को महान पाया
यही हेै हिन्दू सनातन धर्म की कट्टरता
यही था सर्व-धर्म समभाव का समर्पण
किंतु यह सब संभव नहीं भारत माता के चरणों में झुके बिना
ईमानदारी में कट्टरता भी अधूरी है इसके बिना
सबके मान-सम्मान की कट्टरता हिन्दुत्व है
किन्तु भारत माता की जय के बिना अधूरा यह हिन्दुत्व है।

Virendra Dev Gaur

Chief Editor (NWN)

Check Also

सीएम धामी ने प्रदेश वासियों को राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर दी बधाई एवं शुभकामनाएं

देहरादून (सू0 वि0)। राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री ने प्रदेश वासियों को दी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.