Breaking News

करोड़ों की लागत से बने ऐता-चरेख मोटर मार्ग की हालत बेहद खराब

कोटद्वार । ग्रामीणों को लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से करोड़ों का बजट लगाकर बनाये गये ऐता-चरेख मोटर मार्ग की हालत बेहद खराब है। सड़क पर बनाये गये स्क्रबर और डाट पुलियाएं भी बुरी तरह क्षतिग्रस्त हैं। जगह-जगह खराब हुई सड़क पर यात्रा करने में लोगों की सांस अटक रही है, बावजूद इसके जिम्मेदार तंत्र सुध लेने को तैयार नहीं है। केंद्र सरकार ने दुगड्डा ब्लॉक के अंतर्गत घाड़ क्षेत्र के चरेख, बंगला, धरगांव, उर्तिच्छा, सिमलखेत, मंज्याड़ी, कूरीखाल, लदोखी, सिमलखेत, पाली, रामड़ी, धूराताल, कैंतूगी, भेल सरूड़ा, उमरैला तल्ला व उमरैला मल्ला आदि गांवों को सड़क सुविधा से जोडऩे के लिए 22.40 किलोमीटर लंबे ऐता-चरेख मोटर मार्ग के निर्माण की स्वीकृति प्रदान की थी। डामरीकरण के लिए पीएमजीएसवाई सिंचाई खंड कोटद्वार इकाई को 533.74 लाख की धनराशि आवंटित की गई। इसके बाद 25 फरवरी 2011 को शुरू हुआ डामरीकरण का कार्य 24 अगस्त 2012 तक पूर्ण होना था, लेकिन बजट के अभाव में साल 2015 में इस मार्ग का निर्माण कार्य पूरा हो सका। ग्रामीणों का कहना है कि घटिया गुणवत्ता के कारण सड़क लगातार खराब हो रही है। कई बार शिकायत करने पर विभाग ने सड़क किनारे पहाडिय़ों को खोदकर वहां से कच्चा पत्थर निकालकर सड़क में बिछा दिया और डामर बिछाने के नाम पर तारकोल की हल्की परत डाल दी। ग्रामीण देवेंद्र सिंह, राजेश, मनमोहन सिंह, सुरेंद्र सिंह, सुमित द्विवेदी, चंद्रमोहन सिंह, संतोष आदि का आरोप है कि सड़क की खराब हालत के कारण इस मार्ग पर सफर करना बेहद घातक हो गया है। पीएमजीएसवाई सिंचाई खंड कोटद्वार के एई योगेंद्र सिंह, का कहना है कि बजट के अभाव के कारण सड़क की उचित देख-रेख नहीं हो पा रही है। कई प्रस्ताव शासन में लंबित भी हैं। धनराशि उपलब्ध होते ही सड़क को ठीक करा दिया जायेगा।

Check Also

राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री ने जड़ीबूटी दिवस कार्यक्रम में किया प्रतिभाग

देहरादून (सू0वि0)। राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से.नि.) एवं मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरुवार …

Leave a Reply

Your email address will not be published.